असम में सरकारी नौकरी के लिए स्पेशल परीक्षा की बात कही थी, UP की ख़बर बताकर शेयर किया गया

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

सोशल मीडिया पर न्यूज़18 की एक कथित रिपोर्ट का एक स्क्रीनशॉट वायरल है. रिपोर्ट की हेडलाइन है, “Sarkari Naukri: 10वीं, 12वीं में प्रमोट होने वाले स्टूडेंट्स को देना होगा स्पेशल एग्जाम”. कुछ ‘स्क्रीनशॉट्स’ पर योगी आदित्यनाथ की तस्वीर भी दिखती है. दावा है कि ये फैसला उत्तर प्रदेश सरकार ने लिया है. गौर करें कि उत्तर प्रदेश में राजनीतिक दल विधानसभा चुनाव की तैयारियों में लगे हैं. इस दौरान, ये स्क्रीनशॉट उत्तर प्रदेश की ख़बर का बताकर शेयर किया जा रहा है. फ़ेसबुक पर ये स्क्रीनशॉट वायरल है.

This slideshow requires JavaScript.

ऑल्ट न्यूज़ के मोबाइल ऐप पर इस स्क्रीनशॉट की जांच के लिए कुछ रीक्वेस्ट भी आयी हैं.

This slideshow requires JavaScript.

व्हाट्सऐप पर भी ये स्क्रीनशॉट शेयर किया जा रहा है.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

की-वर्ड्स सर्च करने पर ऑल्ट न्यूज़ को न्यूज़ 18 की 7 जुलाई की एक रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट का टाइटल स्क्रीनशॉट में दिख रही ख़बर के जैसा ही है.

2021 08 06 14 51 30 FAKE 1200 ×

रिपोर्ट में बताया गया है कि असम सरकार ने एक आदेश जारी किया था. आदेश के मुताबिक, सरकारी नौकरियों के लिए 10 वीं और 12 वीं क्लास में कोरोना महामारी के चलते प्रमोट हुए छात्रों की मार्कशीट मान्य नहीं होगी. इसके लिए सरकार एक मूल्यांकन नीति निर्धारित करेगी. राज्य सरकार में भर्ती के लिए आगे होने वाली परीक्षाओं में छात्रों को स्पेशल परीक्षा देनी होगी. रिपोर्ट में कहीं भी उत्तर प्रदेश सरकार या केंद्र सरकार द्वारा ऐसा कोई फ़ैसला लेने की बात नहीं बतायी गयी है.

नवभारत टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, असम सरकार के इस फैसले का काफ़ी विरोध हुआ था. आर्टिकल में लिखा है, “भारी विरोध पर मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा और ऑल असम स्टूडेंट्स यूनियन (एएएसयू), ऑल बोडो स्टूडेंट्स यूनियन (एबीएसयू) और असम जातीयतावादी युवा छात्र परिषद (एजेवाईसीपी) जैसे संगठनों के बीच बैठक में उपनियम को वापस लेने का फैसला हुआ।”

उत्तर प्रदेश सरकार या केंद्र सरकार ने ऐसा कोई फ़ैसला नहीं लिया है. अगर ऐसा कोई फ़ैसला लिया होता तो मीडिया में इसकी ख़बर ज़रूर होती.

कुल मिलाकर, असम सरकार ने ऐसा फ़ैसला लिया था कि सरकारी नौकरी में भर्ती के लिए 10वीं 12वीं में प्रमोट हुए छात्रों को स्पेशल परीक्षा देनी पड़ेगी. विरोध के बाद ये फ़ैसला वापस ले लिया गया था. लेकिन ये ख़बर हाल में सोशल मीडिया पर उत्तर प्रदेश की बताकर शेयर की गई जो कि पूरी तरह से भ्रामक है.


बार-बार शेयर होता है ये फ़र्ज़ी दावा – मुस्लिम होटल पर नपुंसकता की दवा मिलाकर दिया जाता है खाना :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.