इंडोनेशिया में 5 हज़ार साल पुरानी हिन्दू देवी-देवताओं की मूर्ति मिलने का दावा ग़लत, ये एक ‘टेम्पल गार्डन’ है

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें काफ़ी शेयर की जा रही हैं. इन तस्वीरों में पानी के नीचे हिन्दू देवी-देवताओं की मूर्तियां दिखती हैं. दावा किया जा रहा है कि इंडोनेशिया के बाली शहर में पानी के नीचे 5 हज़ार साल पुरानी हिन्दू देवी-देवताओं की मूर्तियां मिली हैं. फ़ेसबुक पेज ‘We Support Ram Temple’ ने ऐसे ही दावे के साथ ये तस्वीरें पोस्ट की. आर्टिकल लिखे जाने तक इस पोस्ट को 5,700 लाइक्स मिले हैं.

फ़ेसबुक पर ये तस्वीरें इसी दावे के साथ काफ़ी शेयर की गई हैं.

This slideshow requires JavaScript.

ट्विटर पर भी ये तस्वीरें पोस्ट की गई हैं.

2016 में इसी दावे के साथ एक वीडियो शेयर किया गया था जिसमें पानी के नीचे ऐसी ही मूर्तियां दिखती हैं. यूट्यूब पर ये वीडियो काफ़ी शेयर किया गया.

फ़ैक्ट-चेक

पहली तस्वीर

रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें ये तस्वीर एक ट्रैवेल वेबसाइट के ब्लॉग में मिली. इस तस्वीर को नॉर्थ वेस्ट बाली के पेमुतेरन तट का बताया गया है. आर्टिकल के मुताबिक, बाली के इस तट पर पानी की सतह से 90 फ़ीट नीचे एक मंदिर बनाया गया है.

2021 07 24 12 18 25

दूसरी और तीसरी तस्वीर

आसान से रिवर्स इमेज सर्च से हमें ये तस्वीरें इंडिया टाइम्स के 28 अप्रैल 2016 के आर्टिकल में मिलीं. ये आर्टिकल बाली के अन्डरवॉटर टेंपल की हैं.

‘Bali Bersejarah’ के 2018 के यूट्यूब वीडियो में भी इस अन्डरवॉटर टेंपल गार्डन की तस्वीरें दिखती हैं जिसमें वायरल तस्वीरें भी शामिल हैं.

क्या ये मूर्तियां 5 हज़ार साल पुरानी हैं?

की-वर्ड्स सर्च करने पर हमें 24 मार्च 2012 का यूट्यूब वीडियो मिला. ये वीडियो पेमुतेरन के एक ‘टेंपल गार्डन’ का ही है. वीडियो के साथ दिए गए डिस्क्रिप्शन के मुताबिक, इसे साल 2005 में एक सामाजिक/पर्यावरण प्रोजेक्ट ‘रीफ़ गार्डनर’ के तहत बनाया गया था. कैप्शन में साफ़-साफ़ बताया गया है कि ये मंदिर असली नहीं है. ये वीडियो पॉल टर्ली ने अपलोड किया था. पॉल, बाली की एक टुरिस्ट कंपनी के मालिक है.

पॉल के यूट्यूब चैनल पर ऐसे और भी वीडियो मौजूद हैं.

रीफ़ गार्डनर की वेबसाइट पर बताया गया है कि बाली के 9 देवताओं से प्रेरित होकर ये मूर्तियां बनाई गई थीं. इसमें शिव की मूर्ति भी शामिल है. शिव की प्रतिमा बीच में लगाई गई हैं जिसके आस-पास बाकी 8 मूर्तियां रखी गई हैं. वेबसाइट में लिखा है कि इनका निर्माण 23 से 27 मई, 2014 के बीच में किया गया था. वेबसाइट पर ऐसी ही एक मूर्ति को पानी में स्थापित करने का वीडियो भी है.

इसके अलावा, इंडोनेशिया के बाली में ज़्यादातर लोग हिन्दू धर्म का पालन करते हैं. 2010 की जनगणना के हिसाब से बाली में 83.46% लोग हिन्दू थे.

कुल मिलाकर, बाली के एक तट पर पानी के नीचे बनाए गए ‘टेंपल गार्डन’ में कई हिन्दू देवी-देवताओं की मूर्तियां रखी गई हैं. इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर पिछले कई सालों से इस झूठे दावे के साथ शेयर की गई कि बाली में 5 हज़ार साल पुरानी हिन्दू देवी-देवताओं की मूर्तियां मिली हैं.


भारत में कैडबरी उत्पादों में गाय के मांस का उपयोग? राइट विंग सपोर्टर्स का सोशल मीडिया पर दावा :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.