नवनीत कौर फर्जी कास्ट सर्टिफिकेट से सांसद बन गईं, कोर्ट ने दो लाख का जुर्माना लगाया है

नवनीत कौर राणा. अमरावती की सांसद हैं. निर्दलीय हैं. बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर बेंच ने उनके ऊपर दो लाख रुपये का जुर्माना लगाया है. वजह? कोर्ट ने ये पाया है कि नवनीत कौर ने अपनी जाति को लेकर गलत जानकारी दी थी. और फर्जी जाति प्रमाण पत्र बनवाकर खुद को अनुसूचित जाति का सदस्य बताया था.

नवनीत कौर के खिलाफ एक याचिका लगाई गई थी. इस याचिका में दावा किया गया था कि नवनीत कौर असल में पंजाब से आती हैं. वो लबाना जाति की हैं, जो कि महाराष्ट्र में अनुसूचित जाति के तौर पर लिस्टेड नहीं है. याचिकाकर्ता ने दावा किया था कि स्कूल के फर्जी ट्रांसफर सर्टिफिकेट के आधार पर नवनीत राणा ने आपनी कास्ट सर्टिफिकेट बनवाई थी.

नवनीत कौर राणा महाराष्ट्र के अमरावती से सांसद हैं. ये संसदीय सीट अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित है.

कोर्ट ने फैसले में क्या-क्या कहा?

# नवनीत कौर ने जानबूझकर अपनी जाति को लेकर फर्जी दावे किए. फर्जी जाति प्रमाणपत्र हासिल करने के बाद, उसे गलत तरीके से कास्ट स्क्रूटिनी कमिटी से वैलिडेट करवाया. और फर्जी तरीके से उससे मिलने वाले लाभ लेती रहीं.

# नवनीत कौर का जाति प्रमाण पत्र रद्द किया जाता है. नवनीत कौर को अपना कास्ट सर्टिफिकेट छह सप्ताह के अंदर कास्ट स्क्रूटिनी कमिटी के पास जमा करना होगा.

# 3 नवंबर, 2017 को मुंबई सबअर्बन की कास्ट स्क्रूटिनी कमिटी ने नवनीत कौर के अनुसूचित जाति के होने को मान्यता दी थी. वैलिडेशन के उस आदेश को खारिज किया जाता है.

# फर्जी जाति प्रमाणपत्र के रद्द होने के बाद कानून के तहत उचि कार्रवाई नवनीत
कौर के खिलाफ की जा सकती है.

# नवनीत कौर को दो हफ्ते के अंदर महाराष्ट्र लीगल सर्विस अथॉरिटी में दो लाख रुपये का फाइन जमा करना होगा.

जज ने न्यायप्रणाली पर सवाल उठाए और खुद को गोली मार ली. प्रतीकात्मक फोटो
कोर्ट ने कहा है कि नवनीत कौर के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जा सकती है. (प्रतीकात्मक फोटो)

इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि कास्ट स्क्रूटिनी कमिटी को किसी को जाति प्रमाण पत्र जारी करने से पहले पूरी छानबीन और जांच पड़ताल करनी चाहिए. उन्हें ज्यादा सतर्क रहने की ज़रूरत है. लेकिन इस मामले में लगा कि कमिटी के सदस्यों ठीक से काम नहीं किया.

छिन सकती है सांसदी

जिस अमरावती सीट से नवनीत कौर राणा सांसद हैं, वो अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित सीट है. अब जब कोर्ट ने उनके जाति प्रमाण पत्र को फर्जी करार दिया है. ऐसे में अब उनकी सांसदी छिन सकती है. इसके साथ ही जैसा कि कोर्ट ने कहा, उनके खिलाफ धोखाधड़ी और संबंधित मामलों में कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है.

कौन हैं नवनीत कौर राणा?

मुंबई में जन्मीं. एक्ट्रेस रह चुकी हैं. मुख्यतः तेलुगु सिनेमा में नज़र आईं. लेकिन हिंदी, पंजाबी, मलयालम फिल्मों में भी काम किया है. फिल्मों में आने से पहले मॉडल थीं. फिल्मों से ब्रेक लिया और 2011 में रवि राणा से शादी की. 3100 से ज्यादा जोड़ों के साथ सामूहिक विवाह में इन्होंने शादी की. रवि राणा राजनीति से जुड़े हुए हैं. शादी के वक्त वो अमरावती के बादनेरा विधानसभा क्षेत्र से विधायक थे. फिलहाल उसी सीट पर तीसरी बार विधायक हैं. नवनीत कौर 2019 में पहली बार सांसद चुनी गईं. इंडिपेंडेंट कैंडिडेट के तौर पर.


 

कौन हैं नवनीत कौर राणा, जिनकी मास्क पहनी तस्वीर वायरल हुई



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here