बांग्लादेश की पूर्व PM खालिदा ज़िया का गलत बयान दिखाते हुए 2015 की फ़ेसबुक पोस्ट वायरल

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.


कई सोशल मीडिया यूज़र्स ने बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री ख़ालिदा ज़िया की एक तस्वीर इस कथित बयान के साथ शेयर की है- “मुझे बांग्लादेश में जारी हिंदुओं और बौद्धों के नरसंहार पर खेद है लेकिन बांग्लादेश एक इस्लामिक राष्ट्र है, न कि धर्मनिरपेक्ष. अब यहां मुसलमानों की संख्या ज़्यादा है. ऐसी स्थिति में, अगर हिंदू और बौद्ध सुरक्षित रहना चाहते हैं, तो उन्हें या तो इस्लाम धर्म अपना लेना चाहिए या भारत चले जाना चाहिए. तस्वीर पर ‘This is why CAA’ लिखा है.

ट्विटर यूज़र @ssingapuri ने वायरल तस्वीर पोस्ट की जिस पर करीब 300 रीट्वीट हुए.

पिछले कुछ सालों में कई फ़ेसबुक यूजर्स ने भी ये दावा पोस्ट किया है.

ऑल्ट न्यूज़ को अपने व्हाट्सऐप नंबर (+91 76000 11160) पर इस दावे का फ़ैक्ट चेक करने की रिक्वेस्ट मिली हैं. व्हाट्सऐप ने इस तस्वीर को ‘Forwarded many times’ का लेबल दिया है.

Screen Shot 2021 08 20 at 3.26.54 PM

फ़ैक्ट-चेक

पाठकों को ध्यान देना चाहिए कि अगर बांग्लादेश की पूर्व पीएम ख़ालिदा ज़िया ने ये बयान दिया होता तो इसे लोकल और अंतर्राष्ट्रीय मीडिया ने कवर किया होता. किसी भी न्यूज़ आउटलेट ने ये खबर नहीं दी कि ख़ालिदा ज़िया ने ऐसा बयान दिया है.

इसके अलावा, ज़िया बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी से जुड़ी हैं. वायरल तस्वीर में जैसा बताया गया है, ‘बांग्ला नेशनल पार्टी’ नाम की कोई पार्टी नहीं है.

फ़ेसबुक पेज Khabar24x7.com ने 20 जुलाई 2015 को यही टेक्स्ट शेयर किया था जो वायरल तस्वीर में खालिदा ज़िया के बयान के रूप में दिखता है.

IMG 20210821 140908

ऑल्ट न्यूज़ ने khabar24x7.com डोमेन देखा. मालूम पड़ा कि फिलहाल ऐसी कोई वेबसाइट मौजूद नहीं है.

Screenshot 2021 08 20 at 20.09.30 e1629473741846

बिग डोमेन डेटा के अनुसार, डोमेन 2014 में बनाया गया था. इसे आखिरी बार Wix.com पर होस्ट किया गया था.

Screenshot 2021 08 20 at 20.10.05

Screenshot 2021 08 20 at 20.25.47

इस तरह, एक झूठे सांप्रदायिक बयान के लिए बांग्लादेशी पीएम बेगम ख़ालिदा ज़िया को जिम्मेदार बताया गया. ये बयान कई सालों से राइट विंग वेबसाइटों पर प्रसारित किया जा रहा है. सबसे पुराना कोट हमें मई 2014 का मिला. इस महीने की शुरुआत में ऑल्ट न्यूज़ ने एक रिपोर्ट में बताया था कि मुसलमान हस्तियों के फ़र्ज़ी’ बयान वाले होर्डिंग यूपी के प्रतापगढ़ में दिखाई दिए. मालूम पड़ा कि उनमें से कुछ कोट सोशल मीडिया पर एक दशक पहले से मौजूद हैं.


भारत के किसी गांव में टिन के डब्बों से धुन निकालते बच्चों का वीडियो? देखिये

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.