बांग्ला टाइगर्स ने न्यूज़ीलैंड के घर में वो कर दिया, जो 10 साल से इंडिया-पाकिस्तान भी नहीं कर पाए थे

0 18


बांग्लादेश की टीम ने न्यूज़ीलैंड की धरती पर इतिहास रच दिया. बे ओवल में खेले गए पहले टेस्ट में बांग्लादेश ने मेजबान न्यूज़ीलैंड को आठ विकेट से मात दी. और दो मैच की टेस्ट सीरीज में 1-0 की बढ़त हासिल कर ली. बांग्लादेश के लिए ये जीत ऐतिहासिक है. इससे पहले बांग्लादेश ने कभी न्यूज़ीलैंड को टेस्ट में नहीं हराया था.

साथ ही किसी भी फॉर्मेट में न्यूज़ीलैंड की सरजमीं पर ये बांग्लादेश की पहली जीत भी है. बांग्लादेश को न्यूज़ीलैंड में किसी भी फॉर्मेट में पहली जीत दर्ज करने में 32 मैच लग गए. इस हार के साथ ही न्यूज़ीलैंड का घर में लगातार 17 टेस्ट में अजेय रहने का सिलसिला भी टूट गया. आखिरी बार 2017 में न्यूज़ीलैंड घर में साउथ अफ्रीका से हारा था.

# BANvsNZ

बता दें कि बांग्लादेश की शानदार जीत के हीरो इबादत हुसैन रहे, जिन्होंने मैच में कुल सात विकेट झटके. इबादत को प्लेयर ऑफ द मैच के अवॉर्ड से भी नवाजा गया. इससे पहले बांग्लादेश के कप्तान मोमिनुल हक ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया था. न्यूज़ीलैंड की शुरुआत ठीक नहीं रही.

टॉम लैथम एक रन बनाकर आउट हुए. लेकिन दूसरे विकेट के लिए विल यंग और डेवन कॉन्वे ने 138 रन की साझेदारी की. अपने घर में पहला टेस्ट खेल रहे कॉन्वे ने 122 रन की पारी खेली. जबकि विल यंग ने 52 रन का योगदान दिया. इसके बाद हेनरी निकल्स के बल्ले से 75 रन आए. न्यूज़ीलैंड की पहली पारी 328 पर सिमटी.

जवाब में बांग्लादेश ने 458 रन बना दिए. महमदुल हसन जॉय ने 78, नज़मुल हसन शांतो ने 64, कप्तान मोमिनुल हक ने 88, लिटन दास ने 86 और मेहदी हसन मिराज़ ने 47 रन की अहम पारी खेली. इसके बाद न्यूज़ीलैंड की दूसरी पारी 169 रन पर सिमट गई. बांग्लादेश के तेज गेंदबाज इबादत हुसैन ने 46 रन देकर छह विकेट अपने नाम किये. पहली पारी में बढ़त के आधार पर बांग्लादेश को जीत के लिए 40 रन का लक्ष्य मिला. और दो विकेट खोकर मोमिनुल हक की टीम ने जीत हासिल कर ली. घर के बाहर बांग्लादेश की ये सबसे बड़ी टेस्ट जीत भी है.

बता दें कि दस सालों में ये पहला मौका है जब किसी एशियन टीम ने न्यूज़ीलैंड के खिलाफ न्यूज़ीलैंड में जीत हासिल की है. आखिरी बार 2011 में पाकिस्तान ने न्यूज़ीलैंड को हराया था. अब बांग्लादेश और न्यूज़ीलैंड के बीच दूसरा टेस्ट 9 जनवरी से क्राइस्टचर्च में खेला जाएगा.


क्या पवन सहरावत को क़ाबू कर पाएगा पलटन का डिफेंस?





Source link

Leave A Reply

Your email address will not be published.