लखनऊ से पकड़े गए दो संदिग्ध आतंकी, प्रेशर कुकर बम और हथियार बरामद

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में UP ATS  (एंटी टेररिज़्म स्क्वॉयड) ने 11 जुलाई को 2 संदिग्धों को हिरासत में लिया. इनके आतंकवादी संगठन से जुड़े होने का शक है. ANI की ख़बर के मुताबिक दोनों को लखनऊ में काकोरी के दुबग्गा इलाके से पकड़ा गया है. इनके संपर्क सीमा पार होने का संदेह है. इन्हें हिरासत में ले लिया गया है. इन संदिग्धों के पास से प्रेशर कुकर बम और तमाम अन्य हथियार, दस्तावेज बरामद होने की बात सामने आई है. शक है कि ये लोग किसी घटना को अंजाम देने की तैयारी में थे. अलकायदा जैसे आतंकी संगठन से इनके जुड़े होने का शक जताया जा रहा है.

जिस घर से इन लोगों को पकड़ गया है, वहां कुछ और संदिग्धों के छिपे होने की बात आ रही है. इसलिए ATS का सर्च ऑपरेशन लगातार जारी है. आज तक की ख़बर के मुताबिक- पकड़े गए एक संदिग्ध का नाम शाहिद है. वह मलिहाबाद का रहने वाला बताया जा रहा है. जिस मकान पर ATS ने छापा मारा, वह कथित तौर पर शाहिद का ही है और वह यहां रहकर मोटर गैराज का काम करता था. संदिग्ध शाहिद के घर से दो प्रेशर कुकर बम, एक आधा तैयार टाइम बम मिला है.

UP ATS के IG जीके गोस्वामी ने बताया –

“UP, लखनऊ में सिलसिलेवार ब्लास्ट की प्लानिंग थी. लाइव बम भी बरामद हुआ है. संदिग्ध आतंकियों का कश्मीर से लिंक है. ये स्लीपर सेल थे, लेकिन अब एक्टिव होकर काम कर रहे थे. आज या कल में लखनऊ, UP में ब्लास्ट करने करने वाले थे. इनके पास से काफी विस्फोटक बरामद हुआ है. कई दिनों से प्लानिंग चल रही थी.”

स्लीपर सेल्स से खतरा

बताते चलें कि अल-कायदा के स्लीपर सेल्स को लेकर तलाश और सक्रियता लगातार जारी है. इन्हें पकड़ने में दिल्ली पुलिस समेत तमाम एजेंसियां शामिल रहती हैं. करीब 3 साल पहले इसी इलाके में सैफुल्लाह एनकाउंटर हुआ था. 8 मार्च 2017 को करीब 11 घंटे चले ऑपरेशन में संदिग्ध आतंकी सैफुल्लाह को मारा गया था. उसके पास से कुछ हथियार और दस्तावेज बरामद होने की बात आई थी. बाद में इस एनकाउंटर के मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए थे.

वहीं कुछ बरस पहले खुफिया एजेंसियों ने ये भी खुलासा किया था कि अल-कायदा के इंडिया सबकॉन्टिनेंट प्लान का चीफ भी UP के सम्भल का रहने वाला था, जिसका नाम मौलाना असीम उमर था. बहुत पहले असीम उमर पाकिस्तान शिफ्ट हो गया था, जो बाद मे अलकायदा से जुड़ गया था. कुछ साल पहले मौलाना असीम उमर को अफगानिस्तान में अफगान एजेंसियों ने मार गिराया था.


यूपी ATS ने बताया, रोहिंग्या कैसे आ रहे और ये पूरा काम अंतरराष्ट्रीय गिरोह करता है?





Source link

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.