विराट कोहली को पसंद नहीं आएगी युवराज सिंह की ये बात

युवराज सिंह. टीम इंडिया के पूर्व ऑलराउंडर. युवी ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप पर कुछ ऐसा बोल दिया है जो विराट कोहली और रवि शास्त्री को शायद ही पसंद आए. विराट तो खासतौर से इस बात से नाखुश होंगे. दरअसल युवी का मानना है कि WTC का फाइनल तीन मैचों का होना चाहिए था. अब आप सोच रहे होंगे कि कोहली-शास्त्री की जोड़ी भी तो यही चाह रही थी. तो इसमें बुरा मानने जैसा क्या है? दरअसल इसके साथ ही युवी ने यह भी कहा कि अभी के शेड्यूल को देखें तो विराट कोहली की टीम न्यूज़ीलैंड से पिछड़ी दिखती है.

और बस, यही बात तो कोहली को पसंद नहीं आने वाली. इसी गुरुवार को इंग्लैंड पहुंची टीम इंडिया के साथ देश छोड़ने से पहले ही कोहली ने साफ कहा था कि दोनों टीमें बराबर हैं. जिन्हें ऐसा नहीं लगता उन्हें टीम से नाम वापस ले लेना चाहिए. बता दें कि 18 जून से शुरू हो रहे WTC फाइनल से पहले टीम इंडिया को कोई टेस्ट नहीं खेलना. वहीं न्यूज़ीलैंड की टीम इंग्लैंड के साथ एक टेस्ट खेल चुकी है. और फाइनल से पहले वह मेजबानों के साथ एक टेस्ट और खेलेंगे.

इन्हीं सब बातों को लेकर स्पोर्ट्स तक से बात करते हुए युवी ने कहा,

‘मुझे लगता है कि ऐसे हालात में, बेस्ट ऑफ थ्री टेस्ट मैच होने चाहिए, क्योंकि अगर आप पहला हार जाते हैं तो आप अगले दो में वापसी कर सकते हैं. भारत थोड़ा सा पिछड़ा रहेगा क्योंकि न्यूज़ीलैंड पहले से ही इंग्लैंड में टेस्ट क्रिकेट खेल रहा है. भारत के पास 8-10 प्रैक्टिस सेशन हैं लेकिन मैच-प्रैक्टिस का तो कोई विकल्प ही नहीं है. यह मुकाबला तो बराबरी का होगा लेकिन न्यूज़ीलैंड के पास थोड़ी सी बढ़त होगी.’

युवी ने इस बातचीत में यह भी कहा कि भारत की बैटिंग निश्चित तौर पर न्यूज़ीलैंड से मजबूत है. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि रोहित शर्मा और शुभमन गिल को जल्दी से जल्दी ड्यूक गेंदों के साथ तालमेल बिठाना होगा. युवी ने कहा,

‘मुझे यकीन है कि भारत बहुत मजबूत है क्योंकि हाल में हम देश के बाहर भी जीते हैं. मैं सोचता हूं कि हमारी बैटिंग मजबूत है. बोलिंग में वे बराबरी पर हैं. रोहित शर्मा अब टेस्ट मैचों में भी काफी अनुभवी हैं. उनके नाम लगभग सात शतक हैं जिनमें से चार ओपनिंग करते हुए आए. लेकिन रोहित और शुभमन दोनों ने इंग्लैंड में कभी भी ओपनिंग नहीं की है.

उन्हें यह चैलेंज पता है, ड्यूक की गेंदें जल्दी स्विंग करती हैं. उन्हें हालात से जल्द से जल्द तालमेल बिठाना होगा. इंग्लैंड में एक बार में एक ही सेशन पर ध्यान देना जरूरी है. सुबह में गेंद स्विंग और सीम होती है, दोपहर में आप रन बना सकते हैं, चायकाल के बाद यह फिर से स्विंग होगी. एक बल्लेबाज के रूप में अगर आप इन चीजों से तालमेल बिठा लेते हैं, आप सफल हो सकते हैं.’

उम्मीद है कि युवी की इन बातों से सीख लेकर शुभमन गिल इंग्लैंड में कमाल का प्रदर्शन करेंगे. ऑस्ट्रेलिया में अपने डेब्यू टूर में उन्होंने कुछ अच्छी पारियां खेली थीं. लेकिन इसके बाद हुई घरेलू सीरीज में इंग्लैंड के खिलाफ वह बुरी तरह से फेल रहे थे.


कोहली ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के लिए जाने से पहले क्या कहा जो सबको चुप कर देगा?Indi





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here