सीएम योगी के लिए 2 रुपये में ट्वीट करने के ऑडियो का ‘सच’ सामने आया, 2 गिरफ्तार

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ की सोशल मीडिया टीम में काम करने वाले पार्थ श्रीवास्तव की मौत का बवाल पूरी तरह थमा नहीं था कि पैसे के एवज में ट्वीट का मामला सामने आ गया. अब कानपुर पुलिस ने 2 रुपये में ट्वीट के तथाकथित फर्जीवाड़े में शामिल दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है. ये दोनों आरोपी सूचना विभाग की मीडिया सेल में काम किया करते थे.

2 रुपये में ट्वीट का ऑडियो वायरल हुआ था

सोशल मीडिया पर सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) के पक्ष में ट्वीट करने पर पैसे दिए जाने का एक तथाकथित ऑडियो कुछ दिन पहले वायरल हुआ था. इसमें योगी के सपोर्ट में हर ट्वीट करने पर 2 रुपए देने की बात थी. दावा किया गया था कि ये ऑडियो सीएम की सोशल मीडिया अकाउंट संभालने वाली टीम के सदस्यों के बीच की बातचीत है. दावा ये भी था कि अतुल कुशवाहा नाम का शख्स यह सब करवा रहा है.

इसके बाद योगी सरकार के विरोधी इसे उनके प्रचार की टूलकिट का हिस्सा बताने लगे. वहीं अतुल कुशवाहा ने इस ऑडियो क्लिप को फर्जी करार दिया. अतुल ने 31 मई को कानपुर के कल्याणपुर थाने में रिपोर्ट भी दर्ज कराई. इसमें आरोप लगाया कि उनके नाम पर फर्जी ऑडियो तैयार करके साजिश रची गई है. बता दें कि इस ऑडियो क्लिप को रिटायर्ड IAS अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने भी सोशल मीडिया पर शेयर किया था. इसे लेकर उनके खिलाफ पर FIR दर्ज हुई. पुलिस ने उनसे पूछताछ भी की.

कानपुर पुलिस का दावा है कि हिमांशु सैनी और आशीष पांडे ने ही वह ऑडियो वायरल किया, जिसमें 2 रुपए में योगी आदित्यनाथ के पक्ष में ट्वीट करने का दावा किया गया. (फोटो-आजतक)

अतुल कुशवाहा से जलन में रची साजिश!

इस मामले में नया ट्विस्ट तब आया, जब 6 जून को कानपुर पुलिस ने 2 लोगों को गिरफ्तार किया. पुलिस ने इनके नाम हिमांशु सैनी और आशीष पांडे बताए. दोनों लखनऊ के ही रहने वाले हैं. पुलिस इन्हें इस पूरे ऑडियो कांड का आरोपी बता रही है.

पुलिस के हवाले से आजतक ने बताया कि आशीष पांडे और हिमांशु सैनी दोनों ही सूचना विभाग में सोशल मीडिया का काम देखने वाली बेसिल कंपनी से जुड़े हुए थे. हालांकि अब दोनों ही कंपनी छोड़ चुके हैं. पुलिस का दावा है कि हिमांशु सैनी ने सोशल मीडिया पर सक्रिय बिहार के 15 साल के एक लड़के से यह पूरी बातचीत की थी. इसके बाद दो कॉल्स को मिक्स किया. और उसे अतुल कुशवाहा के नाम पर सोशल मीडिया में वायरल कर दिया.

इसकी वजह बताते हुए कानपुर पुलिस कमिश्नर ने कहा कि जांच से पता चला कि कुशवाहा और पांडे सोशल मीडिया पर प्रमोशन का काम करते थे और और एकदूसरे के कंपटीटर थे. बदनाम करने की नीयत से ये काम किया गया था. उन्होंने कहा-

अतुल कुशवाहा तमान सेलिब्रिटीज़ और नेताओं के ट्विटर हैंडल संभालता है. इसे लेकर आशीष पांडे और हिमांशु सैनी की व्यापारिक जलन थी. इसी के चलते यह पूरी साजिश रची गई.

फिलहाल कानपुर पुलिस ने हिमांशु सैनी और आशीष पांडे को गिरफ्तार करके जेल भेज दिया है. आशीष पांडे की पत्नी प्रीति वर्मा इस समय उत्तर प्रदेश बाल आयोग की सदस्य हैं. पति पर लगे इस आरोप के बाद पत्नी की कुर्सी पर भी खतरा मंडराने लगा है.


वीडियो – पिछले चार साल में युवाओं को रोजगार मिलने वाले दावे पर योगी सरकार की भद्द पिट गई!





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here