2013 की तस्वीर शेयर कर मोदी सरकार द्वारा IAF C-17 विमान से 800 भारतीयों को बचाने का दावा किया गया

0

Get real time updates directly on you device, subscribe now.


भारतीय वायु सेना (IAF) के संचालन में एक विशेष उड़ान कथित तौर पर अफ़गानिस्तान दूतावास के कर्मचारियों सहित वहां फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए 16 अगस्त को काबुल पहुंचा. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, “भारत ने निकासी मिशन के लिए C 17 ग्लोबमास्टर विमानों को रखा था. उनमें से एक रविवार को अफ़गानिस्तान भेजा गया और दूसरे ने सोमवार को दिल्ली के बाहरी इलाके हिंडन वायु सेना स्टेशन से उड़ान भरी.”

इस दौरान एक तस्वीर शेयर की जा रही है जिसमें एक विमान के अंदर फंसे सैकड़ों लोग दिख रहे हैं. इसे शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है, “IAF C17 को 800 लोगों के साथ वापस भेजा गया … ये तस्वीर आज सुबह काबुल हवाई अड्डे से है.”

ये तस्वीर फ़ेसबुक और ट्विटर पर वायरल हो रही है.

4103c9ba 1013 48f5 ade2 433a8307ee12

ऑल्ट न्यूज़ को अपने व्हाट्सऐप नंबर (76000 11160) पर इस दावे की सच्चाई जानने के लिए कई रिक्वेस्ट मिलीं.

This slideshow requires JavaScript.

2013 की तस्वीर

गूगल पर रिवर्स-इमेज सर्च करने पर वेबसाइट af.mil पर 2013 का एक आर्टिकल मिला. अमेरिकी वायु सेना को समर्पित इस वेबसाइट का एक्सेस नहीं मिल रहा था लेकिन ऑल्ट न्यूज़ को 19 दिसंबर, 2013 के आर्टिकल का आर्काइव्ड वर्जन मिला.

f75fffcb 4a53 437e 97c8 8cbb22698acf

हमें फ़ोटो की जानकारी का एक आर्काइव्ड लिंक भी मिला जिसमें लिखा है कि ये 17 नवंबर, 2013 को ली गयी थी. डिस्क्रिप्शन के अनुसार, “670 से ज़्यादा टैक्लोबैन निवासी तूफ़ान हैयान के बाद सी -17 ग्लोबमास्टर III में बैठे हैं, इन्हें मनीला में निकाला जाना था. हैयान तूफ़ान फिलीपींस से टकराया था.” तस्वीर का क्रेडिट US वायु सेना फ़ोटो/स्टाफ सर्जेंट रेमन ब्रॉकिंगटन को दिया गया है.

244d4271 cf66 45d0 b3b6 e7d8220897f2

ये दावा कि भारत सरकार ने C-17 से 800 लोगों को बचाया, गलत है.

अमेरिकी सरकार ने रविवार को 640 लोगों को विमान में बैठाया. डेली मेल की रिपोर्ट के अनुसार, C-17, RCH 871, ने रविवार को हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से कतर के अल उदीद एयर बेस के लिए उड़ान भरी.

NDTV ने सूत्रों के अनुसार बताया कि भारत-तिब्बत सीमा पर लगभग 100 पुलिस कर्मियों सहित कम से कम 2 सौ भारतीय वहां से निकाले जाने का इंतज़ार कर रहे हैं. सोमवार को करीब 45 लोगों को निकाला गया.

काबुल से राजनयिकों, अधिकारियों और पत्रकारों के दूसरे जत्थे को लेकर भारतीय वायु सेना का विमान C-17 मंगलवार को गुजरात के जामनगर पहुंचा. 24 घंटे की बातचीत के बाद 120 लोगों को भारत वापस लाया गया.

1980ff75 f338 4575 80fd 0d3c6237709d

इस तरह वायरल दावा दोनों ही मामलों में झूठा है – न तो तस्वीर हाल की है और न ही भारत सरकार ने काबुल से 800 लोगों को निकाला है.


ब्राज़ील का वीडियो श्रीनगर में आतंकी पकड़े जाने का लाइव फ़ुटेज बताकर वायरल, देखिये

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.