BJP नेताओं ने मोहल्ला क्लिनिक की तीन साल पुरानी तस्वीर शेयर कर AAP पर निशाना साधा

पूर्व क्रिकेटर और भाजपा सांसद गौतम गंभीर समेत पार्टी के कई अन्य नेताओं ने आम आदमी पार्टी (AAP) द्वारा बनायी गयी एक मोहल्ला क्लिनिक की कुछ तस्वीरें शेयर कीं. ये तस्वीरें एक मोहल्ला क्लिनिक की बदहाली बयां करती नज़र आती हैं. तस्वीरों में देखा जा सकता है कि कूड़े-कचरे के ढेर के बीच एक मोहल्ला क्लिनिक है जहां कुछ जानवर घूम रहे हैं. ये तस्वीर गंभीर तब शेयर कर रहे हैं जब कोविड-19 की भयावह स्थिति और स्वास्थ्य तंत्र की नाकामी को लेकर हर तरफ़ केंद्र सरकार की आलोचना की जा रही है.

भाजपा विधायक अभिजीत सिंह सांगा ने द क्विंट की एक वीडियो रिपोर्ट का स्क्रीनशॉट शेयर किया जिसमें लिखा है, ‘केजरीवाल का बीमार मोहल्ला क्लिनिक.’ इसे भाजपा दिल्ली के सचिव कुलजीत सिंह चहल ने भी शेयर किया.

भाजपा सदस्य डॉ. उदिता त्यागी ने एक तीसरी तस्वीर शेयर की जिसमें उसी मोहल्ला क्लिनिक के सामने कचरे का ढेर दिख रहा है.

कुछ भाजपा नेताओं ने आप सरकार की आलोचना करते हुए एक ग्राफ़िक शेयर किया जिसमें ये तीनों तस्वीरें साथ में लगाई गयी हैं. इनमें सिद्धार्थन, रामवीर सिंह बिधुरी, नरेंद्र कुमार चावला, बम्बा लाल दिवाकर और नीतू डबास शामिल हैं. भाजपा युवा मोर्चा नेता चारू प्रज्ञा ने भी एक मोंटाज ट्वीट किया जिसमें मोहल्ला क्लिनिक की खस्ताहाल तस्वीरें दिख रही हैं.

This slideshow requires JavaScript.

2018 की तस्वीर

AAP सदस्यों समेत कई लोगों ने भाजपा के ट्वीट का जवाब दिया और कहा कि पार्टी तीन साल पुरानी तस्वीर शेयर कर भ्रम फैला रही है.

दैनिक जागरण की 19 जून, 2018 की एक रिपोर्ट में वही तस्वीर पब्लिश की गयी है जिसे गंभीर ने ट्वीट किया था. इस रिपोर्ट की हेडलाइन है, “केजरीवाल के ड्रीम प्रोजेक्ट मोहल्ला क्लिनिक में सोते हैं गधे, घोड़े फरमाते हैं आराम.” ये रिपोर्ट दिल्ली के बाबरपुर में AAP सरकार के मोहल्ला क्लिनिक की खस्ताहाल स्थिति के बारे में है.

ncr Horses and donkey Sleeps in Arvind Kejriwals Mohalla Clinic jagran special

जागरण ने सितम्बर 2018 में इसी बाबत एक और रिपोर्ट छापी थी कि बाबरपुर के कबीर नगर इलाके में स्थित जर्जर हाल वाला मोहल्ला क्लिनिक अब शराबियों और जुआरियों का अड्डा बन चुका है. इस रिपोर्ट में एक कोलाज है जिसमें भाजपा नेताओं द्वारा हाल में शेयर की गयी तस्वीरें हैं.

ncr Know the reality of mohalla clinic in delhi

हमने सर्च रिजल्ट्स को 2018 तक सीमित कर ट्विटर पर इस बारे में सर्च किया और पाया कि पहले भी केजरीवाल सरकार को घेरने के लिए यही तस्वीरें शेयर की जा चुकी हैं. यूथ कांग्रेस ने इस मामले पर अख़बार में छपी एक ख़बर का हिस्सा भी शेयर किया था जो हाल में वायरल हो रहा है. (पहला, दूसरा और तीसरा पोस्ट)

This slideshow requires JavaScript.

द क्विंट का स्क्रीनशॉट उसकी एक जून 2018 में की गयी वीडियो रिपोर्ट का है. इस ग्राउंड रिपोर्ट में भी कबीर नगर में स्थित बदहाल हुई मोहल्ला क्लिनिक का आंखों देखा हाल बताया गया है. एक स्थानीय व्यक्ति वीडियो में 1 मिनट 38 सेकंड पर बताता है कि क्लिनिक बनने के बाद एक साल तक चालू नहीं हुआ और हाल ही में उसमें आग लग गयी थी जिसके बाद प्रशासन ने उसे अपने हाल पर छोड़ दिया.

क्लिनिक अब भी वैसा है?

कर्दमपुरी वॉर्ड के कबीर नगर इलाके में स्थित इस बदहाल क्लिनिक को 2019 में दोबारा बनवाया गया और बाबरपुर के AAP विधायक गोपाल राय ने इसका उद्घाटन किया था.

कर्दमपुरी वॉर्ड के पार्षद साजिद खान ने ऑल्ट न्यूज़ को इस क्लिनिक की हालिया तस्वीरें भेजीं.

This slideshow requires JavaScript.

उन्होंने एक वीडियो के ज़रिये भी इस जगह के बारे में फैलाये जा रहे दावों को ग़लत साबित किया और दिखाया कि ये क्लिनिक पूरी तरह से कार्यरत है.

भाजपा नेताओं ने AAP सरकार द्वारा बनाये गये एक जर्जर मोहल्ला क्लिनिक की तीन साल पुरानी तस्वीरें शेयर कर पार्टी पर निशाना साधा. लेकिन बाबरपुर के कर्दमपुरी में स्थित मोहल्ला क्लिनिक को 2019 में दोबारा बनवाया गया और इसमें इलाज भी शुरू हो चुका था. भाजपा सांसद गौतम गंभीर पहले भी ग़लत दावों के आधार पर दिल्ली सरकार को घेरने की कोशिश कर चुके हैं. उन्होंने निर्माणाधीन स्कूल की तस्वीर शेयर करते हुए कहा था कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों के बुरे हालात हैं. इससे पहले 2019 में बॉक्सर और कांग्रेस सदस्य विजेंदर सिंह ने भी मोहल्ला क्लिनिक के नाम पर AAP सरकार पर निशाना साधने की कोशिश की थी. वे दोपहर 2:40 बजे क्लिनिक पहुंचे और कहा कि क्लिनिक बंद है और कोई काम नहीं हो रहा है, लेकिन क्लिनिक खुलने का समय सुबह 8 बजे से दोपहर 2 बजे होता है, ये उन्होंने नहीं बताया था.

[अपडेट: बीजेपी सदस्य उदिता त्यागी को इस लेख में पूर्व मिस इंडिया बताया गया था. इसे हटा दिया गया है. उनके ट्विटर बायो के अनुसार वो 2011 में मिसेज इंडिया वर्ल्डवाइड थीं.]

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here